जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी | Janani Janmbhumisch Swargaadapi Gariyasi

जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी, Janani Janmbhumisch Swargaadapi Gariyasi ,

Janani Janmbhumisch Swargaadapi Gariyasi

“स्वर्गादपि गरीयसी”, एक संस्कृत श्लोक का आधा भाग है। यह श्लोक वाल्मीकि रामायण में भी इसका वर्णन है , और कई रूपों में मिलता है। यह नेपाल का राष्ट्रीय शब्द भी है।

यह संस्कृत श्लोक मुख्य रूप से दो तरह से मिलता है।

पहला

मित्राणि धन धान्यानि प्रजानां सम्मतानिव ।

जननी जन्म भूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी ॥

हिन्दी में अनुवाद

“हे मित्र ! धन्य, धान्य आदि का संसार में बहुत अधिक सम्मान है। किन्तु माता ( जननी) और मातृभूमि (जन्मभूमि) का स्थान स्वर्ग से भी ऊपर है।”
दूसरा

इसमें जब राम लंका पर विजय प्राप्त करते हैं तब लक्ष्मण से कहते हैं-

अपि स्वर्णमयी लङ्का न मे लक्ष्मण रोचते ।

जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी ॥

हिंदी में अनुवाद

” हे लक्ष्मण ! सोने से बनी हुई लंका मुझे पसंद नहीं है । क्योंकि माता ( जननी) और मातृभूमि (जन्मभूमि) का स्थान स्वर्ग से भी महान हैं।”

Janani Janmbhumisch Swargaadapi Gariyasi संस्कृत निबंध

‘जनयतीति जननी’ इत्यन्वयार्थत्वात् जन्मदात्री एव जननी कथ्यते। जन्मनः भूमिरित्यर्थत्वात् जन्मग्रहणभूमिश्च जन्मभूमिर्भवति । उभे अपि जयायस्यौ इति हि अस्याः सूक्ते अर्थः स्वर्ग पावनः पूज्यः सुखप्रदश्चादि । त्रिष्वपि गुणेषु जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गुरुतरे भवतः इत्यत्र मनागपि सन्देहो नास्ति ।

अर्थ :-

चूँकि 'माँ जन्म देती है' का अर्थ है माँ, जन्म देने वाली को माँ कहा जाता है। चूंकि इसका अर्थ है जन्म भूमि, जन्म भूमि और जन्म देने वाली माँ भी जन्म भूमि है। दोनों ही विजयी हैं, क्योंकि इस सूक्त का अर्थ स्वर्ग, पवित्र, पूजनीय और सुख देने वाला है। मेरे मन में तनिक भी संदेह नहीं है कि माँ और जन्मभूमि तीनों गुणों में स्वर्ग से भी भारी हैं।

पावनत्वम् पावयति पवित्रता सम्पादयतीति पावनः कथ्यते। जननी हृदयः पुत्रं प्रति या स्नेहधारा प्रवहति स त्रैलोक्यपावनी गंगेव पुत्रहृदयं घृणाद्वेषादिदोषान् दूरीकृत्य पावयति इति तु अधुनिकः बालमनोविज्ञानाचार्यः सिद्धकृतम् मातृस्नेहाहिनाः बालकाः प्रायेण जीवने अपराधिनः भवन्ति । अतः जननी स्वर्गादपि पावनतरा वर्तते ।

अर्थ :-

जो पवित्र करता है वह पवित्र कहलाता है क्योंकि वह पवित्रता को प्राप्त करता है। बाल मनोविज्ञान के आधुनिक शिक्षक ने सिद्ध कर दिया है कि माता के हृदय से पुत्र के प्रति स्नेह की जो धारा बहती है, वह तीनों लोकों की पावन गंगा के समान है, जो अपने पुत्र के हृदय से द्वेष और वैर की बुराइयों को दूर कर देती है। इसलिए माँ स्वर्ग से भी अधिक पवित्र है

जननी पुत्र पालने असंख्यान् क्लेशान् सहते स्वयं आर्द्रवस्त्रेषु शयित्वा स्वपुत्रं शुष्कवस्वेषु शाययति । स्वयं बुभुक्षिताऽपि सती पूर्व भोजयति अतः सा सर्वथा पूजनीयां सुखपदत्वम् मातुः’ अङ्के यत् सुखं प्राप्यते, तत्सुखम् कुत्रापि न लभ्यते। पशु पक्षिणोऽपि मातुः अङ्के आनन्दातिरेकम् अनुभवन्ति, किम्पुनः मानवाः।

अर्थ :-

एक मां अपने बेटे को पालने में, खुद गीले कपड़ों में लेटने और अपने बेटे को सूखे कपड़ों में लिटाने में अनगिनत कष्ट सहती है। जब वह खुद भूखी होती है तब भी सबसे पहले खिलाती है, इसलिए वह सुख की पाँव के रूप में परम पूज्य है।माँ की गोद में जो सुख मिलता है वह कहीं नहीं मिलता। पशु-पक्षी भी अपनी माँ की गोद में मनुष्य की गोद में आनन्द की अधिकता का अनुभव करते हैं।

यथा जन्मदात्री जननी वन्दनीया तथैव जन्मभूमिरपि सर्वैः अभिनन्दनीया , स्पृहणीया च जन्मभूमिं प्रति मानवस्य स्वाभाविकं प्रेम जन्मतः एव भवति। ये स्वजन्मभूमिं प्रति अनुरागं रक्षन्ति ते धन्या सन्ति। विरला एवं पुरुषाः जन्मभूमिं प्रति अनुरागहीनाः भवन्ति। ईदृशः जनाः कृतघ्नाः राक्षसाः वा भवेयुः। Janani Janmbhumisch Swargaadapi Gariyasi

अर्थ :-

जैसे जन्म देने वाली माता की पूजा करनी होती है, वैसे ही मातृभूमि का सभी को आदर और आदर करना होता है और मातृभूमि के प्रति मनुष्य का स्वाभाविक प्रेम जन्म से ही होता है। धन्य हैं वे जो अपनी जन्मभूमि के लिए अपने जुनून को बरकरार रखते हैं। ऐसे विरले ही पुरुष होते हैं जिनमें अपनी जन्मभूमि के प्रति अनुराग नहीं होता। ऐसे लोग कृतघ्न या राक्षस हो सकते हैं।Janani Janmbhumisch Swargaadapi Gariyasi

Janani Janmbhumisch Swargaadapi Gariyasi

ऋषीणां देश रामकृष्णयोः जन्मभूम्यां कीदृशीयं विडम्बना यद् भ्राता एव स्वभ्रातुः शत्रुः सब्जातोऽस्ति, ‘अतएव जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी’ इतीमां वाणीमुद्घोषयितारम् ऋषिवरं बाल्मीकि वयं कथङ्कारं प्रसादयितुं शक्ष्यामः ।तथापि स्वमनसि नैराश्यं नैवानेयम्। विपत्तिकाले धैर्यमवलम्बनीयम्। स्वमातरं जन्मभूमिं भारतवर्षं प्रति मनसा वाचा कर्मणा सद्भक्तिरेव आचरणीया।

अर्थ:-

राम और कृष्ण की जन्मभूमि ऋषियों की भूमि में कैसी विडम्बना है कि एक भाई अपने भाई का दुश्मन बन गया। विपत्ति के समय धैर्य पर भरोसा करना चाहिए। मन, वचन और कर्म से केवल अपनी जन्मभूमि भारत माता के प्रति सद्भक्ति का अभ्यास करना चाहिए।Janani Janmbhumisch Swargaadapi Gariyasi

Janani Janmbhumisch Swargaadapi Gariyasi । पर्यावरण पर संस्कृत में निबंध | Environment Essay in Sanskrit language , Vidyadhanam sarva dhanam pradhanam essay in Sanskrit | विद्याधनम् सर्व धनं प्रधानम् , किसी के जीवन परिचय के बारे पढ़ सकते हैं (जीवन परिचय ) ,और रोजगार के बारे में जानकारी के लिए पढ़ें – sarkari job

जननी जन्मभूमि स्वर्गदापी गरियासी का अर्थ क्या है?

माँ और जन्मभूमि स्वर्ग से भी अधिक कीमती है ।

जननी और जन्मभूमि स्वर्ग से भी बढ़कर है किसका नारा है?

एक महान शिक्षक सत्येन्द्र नारायण राय ने कहा था कि “जननी और जन्मभूमि स्वर्ग से भी बढ़कर है” ।

जननी का मतलब क्या होता है?

जननी का होता है माँ , जो सबसे बढ़कर होती है ।

4 thoughts on “जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी | Janani Janmbhumisch Swargaadapi Gariyasi”

  1. Pingback: Mitram

Leave a Comment

Disha Patani hot The FIFA World Cup Qatar 2022 Liger (Deverakonda’s movie) Anushka Sen par chadha boldness ka khumar Anjali Arora कच्चा बादाम गर्ल